English bolna sikhe,aasani se.

hi dosto,aj ka blog post bohot hi khaas hai,kyunki aj hum apko btayaenge ki aap english kaise seekh sakte hain…..

vobhi ekdum aasan aur anokhe tareeko se…

1)English movies dekh kar.

ji han dosto,apko lag ra hoga ki ye kya likha hai,lekin bharosa rakhiye,is se assan aur mazedar tareeka koi nahi ho sakta kyunki jab aap english movie dekhte hai tab aap ye dekhte hai ki kaun si jagah pe kis tarah bola ja rahan hai aur kis andaz me

jaise ki maan lijiye aap ek movie dekh rahe hain aur usme 2 log baat kar rahe hai aur dono abhi abhi ek doosre ke samne aa gaye….

boy- hey marie,how you doin,have you done your homework

girl-no,i was quite busy helping my mother with something.

to yahan par aapko ek baat samaj me aaye ki jab dono mile to unhone kis tarah baat ki,aise hi aap poori movie me agar unka andaz samjhenge to aapko boht jaldi progress dikhengi apki english me.

lekin lekin lekin

iska bhi ek taereeka hai,aur vo ye ki aapko shurwat me english movie subtitles ke sath dekhni hai..

subtitles matlab hota hai ki jo movie me log bolenge vo aapki screen ke neeche likh kar aayega,jis aapko samajne me aasani hogi

ye isliye zaroori hai kyunki starting me aapko bina subtitles me ENGLISH SAMAJNE ME DIKKAT HOGI kyunki unka bolne ka tareeka alag hota hai.

jab aap apni english me progress dekhe aur aapko thoda confidence aane lage to fir aap shuru kar sakte hai bina subtitiles ke dekhna,lekin starting me subtitles zaroori hai..

man-hands-reading-boy

2)english news paper or magazine.

is se aapki boht help hogi,english newspaper ka english ka level simple hota hai,matlab ki shurwat me aap aasani se samaj jayenge,aur is se aapka gk aur aptitude bhi accha hoga.

3)Books padh kar

yaad rakhiye dosto books me english ke bhi alag alag level hote hai,matlab ki kuch books to aisi bhi aisi hogi jinka aapko ek page bhi samaj nahi aayega,starting me aur isliye kyunki uska difficulty level bohot zyada hoga,to aap apni english ke hisab se book uthaye.

agar aapko bilkul bhi english mahi aati hai to aap apne chote class ki story book utha lijiye,wahan se start kariye,fir dheere dheere aur difficult books uthaye,

jab thoda thek thak level pe aa jaye to aap novel pe aaiye.

____________________________________________________________________ab ye to hogaye tareeke seekhne ke lekin jabtak aap isko practice nahi karenge tabtak fayda nahi hoga kyunki..

English jan ne me aur bolne me fark hota hai.

maine aise boht log dekhe hai jinko english to aati hai lekin bolne me vo kaap jate hai kyunki bolna ekdum alag cheez hoti hai.

to aap pure din me jobhi seekhe ya yaad kare,raat me sone se pehle ek baar sheeshe ke samne khade hokar,us knowledge se sentence form karne ki koshish karen,thodi der khud se baat karen.

 

bharosa rakhiye dosto is tarah aap bas ek mahina practice kariye aur aap khud dekhnege ki aap kahan se kahan pohoch gaye.

agar koi doubt ho to neche comment zarur karen.

 

UPSC ke free notes ki best sites.

hello dosto,aj ka humare post me aapke liye upsc ke notes ke liye legit aur best sites laaye hai,

ab aapko yahan wahan notes ke liye bhatakna nahi padega,aapko sari links yahi se mil jayengi.

notes ke liye in link par click karen.

free notes clearias site

free notes gradeup sites se

free notes byjus ki site se.

FREE me ncert ke notes..

ncert upsc ke liye bhagwan saman hai,aur ncert ke free notes aap ncert ki official site se padh sakte hain.

ncert notes ke liye yahan par click karen…

http://ncert.nic.in/textbook/textbook.htm?lech2=ps-7

upsc ki preparation free me karen.

namaste dosto,aj ka humara post un logo ko liye hai jinko free me upsc ki preparation karni hai,but ya to vo log coaching afford nahi kar sakte ya koi aur reason hai,

To aap logo ke liye ek acchi khabar hai,aap logo ko upsc clear karne ke liye kisi coaching ki zarurat nahi hai,pata nahi aise kitne candidates hain jinhone bina kisi coaching ke upsc clear kiya hai,to ek baat to aap to clear kar dun main ki..

  1. Rukmani rai ki upsc ki success story

UPSC clear karne ke liye coaching nahi sirf apne ander aag chahiye…

library-1147815__480

  1. Free notes

ab aate hai is baat  pe ki free me preparation kaise start kare,to dosto sabse pehle to apko notes collect karne padenge,lekin ye mat samaj lena dost ki notes kahan se laoge,maine aap ke liye ek aur post likha hai jisme maine free notes ke liye sites batayi hai.aur aap syllabus bhi dekh sakte hai neche de hui link se

UPSC ke free notes ki links

ye sari sites boht acchi hai aur inke notes ekdum umda hai,aap notes yahan se padh sakte hai.

syllabus-upsc syllabus

man-hands-reading-boy

2)news paper.

UPSC prelims and mains me newspaper ka weightage 60 percent se bhi zyada ka hai,iska matlab ki newspaper se 60 percent paper aata hai upsc ka.

UPSC topper tina dabi aur aathar aamir khan ne newspaper ki importance batai hai iska video aap yahan se dekh sakte hai-https://www.youtube.com/watch?v=XOJ1oMHvjhs

news paper padhna chalu karen,roz subah uth kar english aur hindi dono news paper padh sakte hai,lekin agar aapke pas news paper ka access nahi hain tobhi aap free me google par latest news hindi aur english dono me padh sakte hai.

newspaper se aapke current affairs ka foundation mazboot hoga,jis se aap updated rahenge aur current affairs upsc exam ka ek bohot zaruri hissa hai.

3) Mock paper

mock paper matlab hota hai ex exam jo bilkul upsc jaisa hi hoga jisko dekar aapko idea lag jayega ki upsc ka exam kaisa aata hai,paper ki difficulty ka andaza ho jayega,aur jab aap upsc ka exam denge to aapko confidence aayega aur aap accha perform kar payenge upsc exam me.

aap google pe search karenge to aapko hazaron mock papers milenge

upsc mock papers ki links

https://afeias.com/mocktest/

https://byjus.com/free-ias-prep/ias-mock-test-1/

https://neostencil.com/upsc-prelims-mock-test

https://byjus.com/free-ias-prep/cse-prelims-mock-test-2019/

pexels-photo-1311518

4)Interview preparation

interview ke liye aapka english foundation mazboot hona chahiye,aapko english acche se bolna aana chahiye.

Ab aap puchenge ki english seekhe kaise????

to dosto uske upar bhi maine ek detailed post likha hai,aur isme english seekhne ke unique ideas yani anokhe ideas bataye hai.

Bharosa rakhiye mujhpe,logo ka man na hai ki english seekhna boht tough kaam hai,lekin trust me aisa kuch nahi hai,aapka ye dost aapki pure help karega.

 English bolna seekhe aasani se- yahan par click karen

5)mock interviews

mock interviews matlab interview jo ekdum upsc jaise hi hote hai,inme same type ke questions,wahi andaz se puche jaate hai,to is se aapko idea hojayega ki interview kaisa hota hai upsc ka.

srushti deshmukh mock interview-https://www.youtube.com/watch?v=OhJWg-0qdI0

akshat jain mock interview-https://www.youtube.com/watch?v=lsJBGvyiAHI

Junaid ahmad mock interview-https://www.youtube.com/watch?v=xuMAMh6MJVA

to dosto aakhri me mai bas yahi kehna chahunga ki agar aap apne upar bharosa rakh le to duniya ki aisi koi chez nahi jo aapko rok sake.

BELIEVE IN YOURSELF-khud pe bharosa rakh kho dost.

agar aap chahte hai ki mai kisi topic pe post likhu to aap neche comment section me request kar sakte hai,aur agar vo topic mujhe likhne layak laga,ya uspe boht logo ne like kiya to mai us topic me post likhunga.

किसान का बेटा जो इसरो प्रमुख बन गया,K.sivan success story

हाल ही में, इसरो ने लैंडर विक्रम के साथ संपर्क खो दिया, जब वह चंद्रमा की सतह के साथ संपर्क बनाने वाला था, इससे पहले कि वह चंद्रमा के साथ संपर्क कर सके, उससे ठीक 2.1 किलोमीटर पहले, इसरो ने विक्रम से संपर्क खो दिया था।

लेकिन चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव की सतह पर इस तक पहुंचने वाला भारत पहला देश है।

लेकिन बहुत कम लोगों को पता है कि जिस आदमी ने इसे संभव बनाया, irso के प्रमुख, k sivan

एक किसान के बेटे थे और उनकी मेहनत ने उन्हें इसरो का chief बना दिया और उन्हें जीवन में वास्तव में बहुत दूर ले गए।

केएसवान इतने प्रतिभाशाली हैं कि उन्हें नासा द्वारा नौकरी की पेशकश भी मिली, लेकिन उन्होंने इसे अस्वीकार कर दिया और इसरो के लिए काम कर रहे थे और आज पूरी दुनिया उन्हें जानती है।

यह उनके देश के प्रति उनके प्यार और देशभक्ति को दर्शाता है.

download (21)

image source-ndtv news

व्यक्तिगत जीवन

के. सिवन का जन्म भारत के तमिलनाडु राज्य के कन्याकुमारी जिले में नागरकोइल के पास मेला सरक्कलविलाई में हुआ था। उनके पिता कैलासा वाडिवु और माता चेलम हैं।  सिवन को भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए क्रायोजेनिक इंजन के विकास में महत्वपूर्ण योगदान के लिए जाना जाता है।

शिक्षा

सिवन एक किसान का बेटा है और मेला सरक्कलविलाई गाँव के एक तमिल माध्यम के सरकारी स्कूल में और बाद में कन्याकुमारी जिले के वल्लनकुमारनवलाई में पढ़ता है। वह अपने परिवार से पहला स्नातक है। बाद में सिवन ने 1980 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की। फिर उन्होंने 1982 में भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री प्राप्त की और इसरो में काम करना शुरू कर दिया। उन्होंने डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। 2006 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बॉम्बे से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में डिग्री। वह इंडियन नेशनल एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग, एयरोनॉटिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया और सिस्टम सोसाइटी ऑफ इंडिया के hissa हैं।

योगदान

सिवन ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के लिए लॉन्च वाहनों के डिजाइन और विकास पर काम किया। पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (PSLV) प्रोजेक्ट में भाग लेने के लिए सिवन 1982 में इसरो में शामिल हुए थे। उन्हें 2 जुलाई 2014 को इसरो के तरल प्रणोदन प्रणाली केंद्र के निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था। 1 जून 2015 को, वह VSSC के निदेशक बने। जनवरी 2018 में सिवन को इसरो का प्रमुख नियुक्त किया गया और उन्होंने 15 जनवरी को पदभार ग्रहण किया।  उनकी अध्यक्षता में, इसरो ने चंद्रयान 2 को 22 जुलाई, 2019 को चंद्रमा पर दूसरा मिशन लॉन्च किया।

कक्षा 6 में असफल छात्र से लेकर IAS अधिकारी बनने तक,rukmani rai success story hindi,motivational stories in hindi

रुक्मणी रायार, 24 वर्ष की उम्र और गुरदासपुर जिले के जमींदारों के एक परिवार से संबंधित थीं,
जिन्होंने 2011 की सिविल सेवा परीक्षा में दूसरी रैंक हासिल की थी। उनके पिता बलजिंदर सिंह रायार होशियारपुर के सेवानिवृत्त उप जिला
अटॉर्नी हैं और उनकी माँ तकदीर कौर एक गृहिणी हैं। वह अपने माता-पिता की इकलौती संतान है।
उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा सेक्रेड हार्ट स्कूल हिमाचल प्रदेश के डलहौजी से की।
उन्होंने अमृतसर में गुरु नानक देव विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की। रुक्मणी टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज से
सामाजिक विज्ञान में पोस्ट ग्रेजुएशन में गोल्ड मेडलिस्ट हैं। रुक्मणी को अपने पहले ही प्रयास में सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा में सफलता मिली।
उसके पिता होशियारपुर के एक वकील हैं।

08rukmani

अपने अध्ययन पैटर्न के बारे में बात करते हुए, उसने कहा कि वह हमेशा स्वाध्याय के साथ उत्कृष्ट रही है।
वह हमेशा केंद्रित थी और नागरिक सेवाओं में शामिल होने की इच्छुक थी।
यही एकमात्र कारण है कि उसने सामाजिक विज्ञान को अपने अध्ययन के क्षेत्र के रूप में चुना ताकि यूपीएससी परीक्षा में उसे लाभ मिल सके।

रुक्मणी रायार चंडीगढ़ की मूल निवासी हैं। वह एक आईएएस अधिकारी बनना चाहती थी ताकि वह अपने अनुभव और प्रशिक्षण का उपयोग कर राष्ट्र की सेवा बेहतर तरीके से कर सके।
उनके पिता होशियारपुर के सेवानिवृत्त डिप्टी डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी बलजिंदर सिंह रियार हैं और उनकी माँ तकदीर कौर एक गृहिणी हैं।
एक बार कक्षा छह में असफल होने के बाद, रुक्मणी को कभी भी असफल होने का डर था। हालाँकि, निराश करने वाले अनुभव ने उसे व्यंग्य और शिकायत करना नहीं सिखाया। वह दृढ़ता से मानती है कि यदि कोई व्यक्ति उस अंधेरे दौर से कायम रहने का फैसला करता है, तो जीत हासिल करने से कोई नहीं रोक सकता। उसके लिए, यह एक IAS टॉपर था।
अपनी स्कूली शिक्षा के बाद रुक्मणी ने अमृतसर के गुरु नानक देव विश्वविद्यालय से सामाजिक विज्ञान में स्नातक की पढ़ाई पूरी की।
बाद में, वह सामाजिक उद्यमिता में स्नातकोत्तर के लिए टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज में शामिल हो गईं। उन्होंने अपने पोस्ट-ग्रेजुएशन में गोल्ड मेडल हासिल किया।
उन्होंने भारत के योजना आयोग के साथ काम किया और मैसूर में आशोडया और मुंबई में अन्नपूर्णा महिला मंडल जैसे गैर सरकारी संगठनों के साथ भी काम किया। उन्होंने नई दिल्ली में सेंटर फॉर इक्विटी स्टडीज में सामाजिक कार्यकर्ता हर्ष मंडेर के तहत भी काम किया है।
रुक्मणी ने 2011 में IAS की परीक्षा दी और अपने पहले ही प्रयास में एक अद्भुत दूसरा रैंक हासिल किया।

download (14)

चंडीगढ़ में जन्मी और पली-बढ़ी, 29 वर्षीय ने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज, मुंबई से सामाजिक उद्यमिता में मास्टर डिग्री प्राप्त की, जहां उन्होंने लगातार अपनी कक्षा में टॉप किया। “जब से मैं कक्षा 6 में फेल हुआ, मुझे असफलता से डर लगता है। यह बहुत निराशाजनक हो सकता है। लेकिन उस घटना के बाद, मैंने अपना मन बना लिया कि मैं व्यंग्य और शिकायत नहीं करूंगा। मैं कड़ी मेहनत करूंगा और चीजों को अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगा। मेरा मानना ​​है कि अगर कोई दृढ़ रहने और उस चरण से बाहर आने का फैसला करता है, तो आपको सफलता हासिल करने से कोई नहीं रोक सकता है, ”रुक्मणी ने एक साक्षात्कार में रेडिफ को बताया।

images (4)

रुक्मणी को कविता लिखना पसंद है, और वह कड़ी मेहनत और समर्पण की भावना रखने वाली हैं। उसने राजनीति विज्ञान और समाजशास्त्र के साथ सिविल सेवाओं को अपने मुख्य विषयों के रूप में क्रैक किया। आईबीएन लाइव के साथ एक साक्षात्कार में, रुक्मणी ने कहा, “मेरी कड़ी मेहनत ने भुगतान किया है और मैं बहुत खुश हूं। मैं सफलता के लिए अपने माता-पिता, शिक्षकों, दोस्तों और सभी भगवान से ऊपर का श्रेय देता हूं। उम्मीदवारों के लिए मेरा संदेश है कि निरंतरता, कड़ी मेहनत और दृढ़ता सफलता की कुंजी है। इसका लाभ उठाएं। अगर मैं यह कर सकता हूं, तो बाकी सभी लोग कर सकते हैं, और कुछ भी आपको रोक नहीं सकता है। ”

इस पोस्ट को आप दोस्तों के साथ शेयर करें:-

 

Paste your code here.
Paste your code here.
Paste your code here.